ख़बर जहां, नज़र वहां

भोपाल में कोरोना टेस्टिंग के दाम तय, प्राइवेट लैब ने बंद किया होम सैंपल लेना

मध्यप्रदेश में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. जिसके चलते राज्य में कई जगहों पर श्मशान घाट और कब्रिस्तान में शवों को जलाने और दफनाने के लिए जगह की कमी पड़ रही है. लेकिन मध्यप्रदेश की जनता सिर्फ कोरोना के संक्रमण से ही परेशान नहीं है बल्कि कोरोना टेस्ट की जमीनी हकीकत भी बहुत भयावह है.
भोपाल में कोरोना टेस्टिंग के दाम तय, प्राइवेट लैब ने बंद किया होम सैंपल लेना

भोपालः मध्यप्रदेश में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. जिसके चलते राज्य में कई जगहों पर श्मशान घाट और कब्रिस्तान में शवों को जलाने और दफनाने के लिए जगह की कमी पड़ रही है. लेकिन मध्यप्रदेश की जनता सिर्फ कोरोना के संक्रमण से ही परेशान नहीं है बल्कि कोरोना टेस्ट की जमीनी हकीकत भी बहुत भयावह है. 

कोरोना टेस्ट की कीमत की तय, टेस्ट की संख्या घटी

राज्य सरकार ने दस दिन पहले ही लोगों की सहूलियत के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट की कीमत को 1,200 रुपये से घटाकर 700 रुपये कर दिया था. वहीं, होम सैंपल कलेक्शन की कीमत भी 200 रुपये तय तक दी थी ताकि जांच की कीमत में मनमानी ना हो सके. लेकिन ग्राउंड पर इसका उलट ही हो रहा है. 

क्षमता से अधिक टेस्ट के लिए आ रहे सैंपल

भोपाल में सिर्फ 14 लैब हैं, जहां आरटीपीसीआर टेस्ट होता है. और इनकी क्षमता करीब साढ़े तीन हजार सैंपल की है लेकिन रोजाना पांच हजार सैंपल मिल रहे हैं. जिसमें आस-पास के शहरों के लोग भी सैंपल के लिए आते हैं. 

सरकार ने तय की कोरोना टेस्टिंग की बहुत कम कीमत- निजी लैब

वहीं कुछ लैब ऐसे हैं जो सिर्फ रैपिड एंटीजन टेस्ट ही कर रहे हैं. आपको बता दें कि पांच अप्रैल को सरकार ने टेस्ट की कीमत तय कर दी थी, उसके बाद हर दिन सैंपल की संख्या 1,500-6,500 के बीच जा रही थी लेकिन अब ये फिर घट गई है. निजी लैब के संचालकों का कहना है कि सरकार ने टेस्ट की कीमत बहुत कम तय कर दी है. 

निजी लैब ने बंद किया होम सैंपल लेना

भोपाल में 14 सरकारी और निजी लैब कोरोना टेस्ट की जांच कर रही हैं. जानकारी के मुताबिक अब तक आठ निजी लैब रोजाना 350 सैंपल की जांच कर रही थी लेकिन एक लैब तकनीकी दिक्कत के चलते बंद हो गई और दूसरी लैब को सरकार ने सील कर दिया. ऐसे में भोपाल में सिर्फ 6 लैब ही कोरोना टेस्ट कर रही हैं. वहीं, निजी लैब ने होम सैंपल लेने बंद कर दिए हैं, जिसके कारण प्रतिदिन होने वाले करीब 125 सैंपल भी अब कम हो गए हैं.

Leave Your Comment
Most Viewed
Related News