ख़बर जहां, नज़र वहां

उत्तराखंड के युवा बाल साहित्यकार ललित शौर्य को मिलेगा, 'बाल साहित्यश्री' सम्मान

उत्तराखंड के युवा बाल साहित्यकार ललित शौर्य को उनके बहुचर्चित बाल कहानी संग्रह 'कोरोना वॉरियर्स' के लिए वर्ष 2021 का 'बाल साहित्यश्री' सम्मान मिलेगा. जिसकी घोषणा पंडित हर प्रसाद पाठक स्मृति बाल साहित्यकार समिति मथुरा ने की है.
उत्तराखंड के युवा बाल साहित्यकार ललित शौर्य को मिलेगा, 'बाल साहित्यश्री' सम्मान

देहरादूनः उत्तराखंड के युवा बाल साहित्यकार ललित शौर्य को उनके बहुचर्चित बाल कहानी संग्रह 'कोरोना वॉरियर्स' के लिए वर्ष 2021 का 'बाल साहित्यश्री' सम्मान मिलेगा. जिसकी घोषणा पंडित हर प्रसाद पाठक स्मृति बाल साहित्यकार समिति मथुरा ने की है. कोरोना संक्रमण प्रभाव में कमी को देखते हुए कुछ महीनों बाद एक समारोह में यह सम्मान ललित शौर्य को प्रदान किया जाएगा.

आपको बता दें कि ललित शौर्य की इस उपलब्धि पर डॉ.गुरुकुलानंद कच्चाहारी,समाजसेवी जुगल किशोर पांडेय, चंदन पानू, नवीन चंद्र शर्मा,लक्ष्मी आर्या,जयमाला देवलाल, प्रकाश जोशी शूल समेत अनेक साहित्यकारों ने शुभकामनाएं प्रदान की हैं.

जानकारी के अनुसार ललित शौर्य कई वर्षों से बच्चों के लिए कहानियां लिख रहे हैं. पुरुस्कृत कहानी संग्रह 'कोरोना वॉरियर्स' शौर्य द्वारा लॉकडाउन के दौरान लिखा गया है. इसमें कोरोना के प्रति जागरूक करती 10 कहानियां संकलित हैं. ये कहानियां बच्चों को बहुत पसंद आ रही हैं. शौर्य चम्पक, नंदन, बाल भारती, देवपुत्र, बच्चों का देश, स्नेह आदि राष्ट्रीय बाल पत्रिकाओं में नियमित लिख रहे हैं.

बता दें कि ललित शौर्य की डेढ़ दर्जन से अधिक कहानियों का अंग्रेजी, मलयालम, कन्नड़,गुजराती, मराठी, तेलगु आदि भाषाओं में अनुवाद हो चुका है. उनकी बाल साहित्य की पांच किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं. दादाजी की चौपाल, फॉरेस्ट वॉरियर्स, कोरोना वॉरियर्स, द मैजिकल ग्लब्ज, स्वच्छता के सिपाही पुस्तकें खूब चर्चा में हैं. शौर्य आधा दर्जन काव्य संग्रहों का संपादन भी कर चुके हैं. उनका एक काव्य संग्रह 'सृजन-सुगन्धि'  भी प्रकाशित हो चुका है.

वहीं, ललित शौर्य ने गरीब बच्चों तक निःशुल्क बाल साहित्य पहुंचाने का अभियान चलाया हुआ है. वह विभिन्न माध्यमों से पांच हजार से अधिक बच्चों तक बाल साहित्य पहुँचा चुके हैं. शौर्य का कहना है कि वह युवा पीढ़ी व बच्चों के हाथों में मोबाइल के स्थान पर बाल साहित्य देखना चाहते हैं. इसके लिए वह लगातार प्रयास कर रहे हैं. जानकार के अनुसार ललित शौर्य को इससे पूर्व हिंदी भूषण, ध्रुव सम्मान,पर्यावरण मार्तंड सम्मान, सारस्वत सम्मान, सहित्य श्री सम्मान, सहित्य सृजन सम्मान समेत दर्जनों सम्मान प्राप्त हो चुके हैं.

Leave Your Comment
Related News