ख़बर जहां, नज़र वहां

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव को 10 लाख जुर्माने के साथ 5 साल तक जेल

In the third case of fodder scam, Laloo Yadav gets 10 lakh fine and imprisoned for 5 years
चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव को 10 लाख जुर्माने के साथ 5 साल तक जेल
रांची:  बता दें कि अगर इस केस में लालू को तीन साल की सजा मिलती तो लालू इसी कोर्ट से जमानत ले सकते थे. लेकिन अब लालू को इस मामले में भी जेल जाना पड़ेगा. 
लालू यादव को कस्टडी में लेकर रांची की बिरसा मुंडा जेल ले जाया गया है.
लालू यादव की सजा का एलान हो गया है. लालू यादव को पांच साल की सजा दी गई है और 10 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है. दूसरे मामले में लालू को साढ़े तीन साल की सजा हुई थी. वहीं, पहले मामले में लालू को पांच साल की सजा हुई थी.
जगन्नाथ मिश्र को भी पांच साल की सजा सुनाई गई है. साथ ही पांच लाख का जुर्माना भी लगाया गया है.
जगन्नाथ मिश्र की गैरमौजूदगी में उनकी सजा का एलान किया जाएगा. बता दें कि दो दिन पहले उनकी पत्नी की मौत हो गई थी.
चारा घोटाले के इस तीसरे केस में 56 लोग आरोपी थे, जिनमें से 50 लोगों को दोषी करार दिया गया है. 
इस मामले में छह आरोपियों को बरी कर दिया गया है. वहीं लालू यादव की सजा पर बहस दोपहर दो बजे शुरु हुयी.
तेजस्वी यादव ने कहा कि लालू जी को फंसाने में आरएसएस और बीजेपी के साथ सबसे बड़ी भुमिका नीतीश कुमार ने निभाई है. तेजस्वी ने नीतीश पर निशाना साधते हुए कहा है कि नैतिक भ्रष्टाचार के पितामाह के कैबिनेट में 75 फीसदी भ्रष्ट लोग हैं. उन्होंने कहा कि नीतीश की सरकार में कानून व्यवस्था बिगड़ गई है. 
लालू यादव अब तक चारा घोटाले के तीन मामलों में दोषी करार दिए गए हैं. लालू यादव पर कुल छह केस दर्ज हैं.

न्यायाधीश एस एस प्रसाद ने लालू को सुनाई सजा -

चाईबासा कोषागार मामले में लालू यादव दोषी करार दिए गए हैं. लालू के अलावा पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र भी दोषी करार दिए गए हैं.
आरजेडी के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद ने कहा है कि बिहार में हमारी पार्टी का जन समर्थन बढ़ रहा है. लालू यादव को फंसाया जा रहा है. उन्होंने कहा है कि अगर सीबीआई कोर्ट ने उन्हें राहत दी तो ठीक है नहीं तो हम हाईकोर्ट में अपील करेंगे.
लालू यादव रांची में सीबीआई के विशेष अदालत पहुंच गए हैं . चारा घोटाले के तीसरे केस में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव दोषी करार दिए गए हैं. रांची की सीबीआई कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है. ये मामला चारा घोटाले के तीसरे केस चाईबासा कोषागार मामले से जुड़ा है.  देवघर कोषागार मामले में लालू यादव पहले ही सजा काट रहे हैं.
लालू को 2013 के मामले में जमानत मिल गई थी. लेकिन दूसरे और तीसरे केस में उन्हें जमानत नहीं मिली. इसलिए लालू को इन दोनों केस में जमानत के लिए अलग-अलग अर्जी देने होगी.
चाईबासा मामले में अदालत ने अपना फैसला 10 जनवरी को सुरक्षित रख लिया था. सीबीआई के विशेष न्यायाधीश एस एस प्रसाद इस मामले में आज फैसला सुनाएंगे. 
ये मामला 1990 के दशक में चाइबासा ट्रेजरी से कथित तौर पर 35.62 करोड़ रुपये फर्जी तरीके से निकालने से जुड़ा है.

Leave Your Comment
Related News