ख़बर जहां, नज़र वहां

ICMR का दावा कि कोरोना की डेल्टा प्लस वेरिएंट पर कोवाक्सिन हैं प्रभावी

देश में कोरोना वैक्सीन पर शोध इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने अपने अध्ययन में दावा किया है कि कोरोना की वैक्सीन 'कोवाक्सिन' डेल्टा प्लस वेरिएंट के खिलाफ भी अधिक प्रभावी है.
ICMR का दावा कि कोरोना की डेल्टा प्लस  वेरिएंट  पर कोवाक्सिन हैं प्रभावी

नई दल्ली: देश में कोरोना वैक्सीन पर शोध इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने अपने अध्ययन में दावा किया है कि कोरोना की वैक्सीन 'कोवाक्सिन' डेल्टा प्लस वेरिएंट के खिलाफ भी अधिक प्रभावी है। भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन 'कोवाक्सिन' को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के सहयोग से विकसित किया गया है।

इससे पहले भारत बायोटेक ने कहा था कि कोवाक्सिन की प्रभावशीलता कोरोना वायरस के खिलाफ 77.8 फीसदी और नए डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ 65.2 फीसदी है।  वहीं कोवाक्सिन गंभीर लक्षण वाले मामलों में 93.4 फीसदी प्रभावी रही है।  

भारत बायोटेक के द्वारा कोवैक्सीन के तीसरे फेज के ट्रायल के बाद जारी किए गए कुछ आंकड़े

1.बिनालक्षण वाले मामलों में प्रभावकारिता : 63 फीसदी 

2.माइल्ड, मॉडरेट और गंभीर मामलों में प्रभावकारिता : 78 फीसदी

3.कोरोना के गंभीर मामलों में प्रभावकारिता : 93 फीसदी

4.डेल्टा वैरिएंट के खिलाफ प्रभावकारिता : 65 फीसदी

वहीं इसके अलावा अमेरिकी शीर्ष स्वास्थ्य शोध संस्थान नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (एनआईएच) ने बताया था कि कोवाक्सिन कोविड-19 वायरस के अल्फा और डेल्टा वैरिएंट को प्रभावी तरीके से बेअसर करती है। एनआईएच ने बताया था कि यह दो शोधों के डाटा के आधार पर ये दावा किया जा रहा है।

Leave Your Comment
Most Viewed
Related News