ख़बर जहां, नज़र वहां

गहलोत सरकार ने साधा एक तीर से दो निशाना, शील धाभाई को बनाया कार्यवाहक मेयर

ग्रेटर नगर निगम में महापौर और तीन पार्षदों को निलंबित करने के बाद राज्य सरकार ने शील धाभाई को कार्यवाहक महापौर बनाकर एक तीर से दो निशाने साध लिए हैं. सरकार ने एक तो डॉ. सौम्या गुर्जर को हटाने के कारण गुर्जर समाज में जो नाराजगी उभरी थी.
गहलोत सरकार ने साधा एक तीर से दो निशाना, शील धाभाई को बनाया कार्यवाहक मेयर

जयपुरः ग्रेटर नगर निगम में महापौर और तीन पार्षदों को निलंबित करने के बाद राज्य सरकार ने शील धाभाई को कार्यवाहक महापौर बनाकर एक तीर से दो निशाने साध लिए हैं. सरकार ने एक तो डॉ. सौम्या गुर्जर को हटाने के कारण गुर्जर समाज में जो नाराजगी उभरी थी, उसे साधने का काम किया, दूसरी तरफ भाजपा की एकता को भी टटोलने का काम किया है. धाभाई वसुंधरा खेमे की मानी जाती है.

वहीं, राज्य सरकार ने बीजेपी की वरिष्ठ पार्षद और पूर्व मेयर शील धाभाई को कार्यवाहक महापौर बनाया है. शील धाभाई का नाम चुनाव के वक्त से ही महापौर के लिए चल रहा था, लेकिन नामांकन के आखिरी मौके पर भाजपा ने उनका नाम काटकर डॉ. सौम्या को मेयर का उम्मीदवार बनाया था. इसे लेकर शील धाभाई अंदरखाने काफी नाराज चल रही थीं. यूडीएच मंत्री ने इसी नाराजगी को भुनाने की कोशिश अपनी रणनीति में की है.

उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को महापौर सौम्या गुर्जर और आयुक्त यज्ञमित्र देव सिंह के बीच एक बैठक के दौरान तीखी बहस हुई थी. बताया जा रहा है कि कि डोर-टू-डोर कचरा उठाने वाली कंपनियों के भुगतान के मुद्दे पर हुई बैठक के दौरान जब मेयर से उनकी और आयुक्त के बीच तकरार हुई, तो वो बाहर जाने लगे. आयुक्त सिंह का आरोप है कि इस दौरान भाजपा के तीन पार्षदों ने उनसे अभद्र व्यवहार और मारपीट भी की. घटना के बाद आयुक्त ने तीन पार्षदों के खिलाफ थाने में शिकायत दी और एफआईआर दर्ज कराई. इसके बाद स्वायत्त शासन विभाग ने मेयर सौम्या गुर्जर सहित चार पार्षदों को निलंबित कर दिया.

आपको बता दें कि जयपुर में नगर निगम बनने के बाद जब साल 1999 में जब दूसरा बोर्ड बना था, तब निर्मला वर्मा मेयर बनी थी. निर्मला वर्मा 29 नवंबर 1999 से 16 अगस्त 2001 तक रही. वर्मा के निधन के बाद शील धाभाई 4 दिसंबर 2001 से 28 नवंबर 2004 तक जयपुर की मेयर रही. मेयर के बाद शील धाभाई ने भाजपा की टिकट से कोटपूतली से विधानसभा चुनाव भी लड़ा था, लेकिन वह हार गई थी.

Leave Your Comment
Related News