ख़बर जहां, नज़र वहां

चिराग पासवान ने पशुपति पारस पर उठाए सवाल, कहा- मैं दूसरी पार्टियों पर अंगुली उठाने की हैसियत नहीं रखता

सांसद चिराग पासवान ने कहा कि जब अपनों ने साथ नहीं दिया तो मैं दूसरी पार्टियों पर अंगुली उठाने की हैसियत नहीं रखता. अगर मेरे परिवार वालों का आज साथ होता तब ही मैं दूसरों के बारे में सोचता.
चिराग पासवान ने पशुपति पारस पर उठाए सवाल, कहा- मैं दूसरी पार्टियों पर अंगुली उठाने की हैसियत नहीं रखता

पटनाः सांसद चिराग पासवान ने कहा कि जब अपनों ने साथ नहीं दिया तो मैं दूसरी पार्टियों पर अंगुली उठाने की हैसियत नहीं रखता. अगर मेरे परिवार वालों का आज साथ होता तब ही मैं दूसरों के बारे में सोचता.

बातचीत से हो सकता है बड़ी समस्या का हल

सांसद चिराग पासवान ने कहा, “पापा हमेशा कहते थे कि हर बड़ी समस्या का हल बातचीत से हो सकता है. जब मेरे चाचा को पार्टी से अलग होना था तो किसी ने मुझसे बात तक नहीं की. अगर मेरे चाचा या भाई किसी ने बात की होती तो आज समस्या का हल हो सकता था.”

चाचा को भी पार्टी को साथ लेकर चलना चाहिए था

चिराग पासवान ने कहा कि मेरे पिता रामविलास पासवान ने हमेशा पार्टी को साथ लेकर चला. उनके जाने के बाद चाचा को भी पार्टी को साथ लेकर चलना चाहिए था. मैं उनका बेटा हूं, वो मुझे बैठाते बात करने के लिए. अगर उनको मंत्री बनना था तो वो खुद कहते. मैं पार्टी से बात कर उनके नाम के लिए ही सुझाव देता.

पार्टी में सबकी सहमति से लिया गया हर फैसला’

चिराग पार्टी में अकेले फैसला लेते हैं वो किसी से बात नहीं करते हैं, इसपर चिराग पासवन ने कहा कि पशुपति पारस एक फैसला बता दें जिसे उन्होंने अकेले लिया हो. चुनाव की रणनीति और टिकट के बंटवारे तक सबकी राय ली गई थी. सभी सांसदों में नाराजगी थी जिसके बाद पार्टी ने अलग चुनाव लड़ने का फैसला लिया था.

नीतीश कुमार ने भी दिया धोखा

चिराग पासवान ने कहा, “मैं अकेले फैसले लेता तो 95 प्रतिशत पार्टी के लोग आज मेरे साथ नहीं होते. अगर अकेले मैंने सबकुछ किया है तो चाचा को बैठाकर पूछना चाहिए था, वो मुझे डांटते. पापा खुद भी चाहते थे कि एलजेपी अकेले चुनाव लड़े. क्योंकि नीतीश कुमार ने भी पापा को धोखा दिया है.

Leave Your Comment
Most Viewed
Related News