आखिर क्यों एक दूसरे से भिड़ गये उमर और महबूबा ? सामने आई ये बड़ी वजह

जम्मू - कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद घाटी में अब एक और नया मोड़ आया है। वैसे तो पीडीपी(PDP) और नेशनल कॉन्फ्रेंस (NC) लंबे समय से एक दुसरे की धुर विरोधी रहीं है लेकिन जम्मू-कश्मीर में सेना की अतिरिक्त तैनाती के बाद से दोनों दलों में नजदीकियां हुई थीं। इसके बाद अनुच्छेद 370 हटने पर दोनों पार्टियों के शीर्ष नेताओं को नजरबंद कर दिया गया।
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, नजरबंदी के दौरान ही PDP मुखिया महबूबा मुफ्ती और NC उपप्रधान उमर अब्दुल्ला के बीच कुछ कहासुनी हो गई। बात इतनी ज्यादा बढ़ गई कि दोनों नेताओं को अलग-अलग करना पड़ा। इस कहासुनी की वजह ये थी कि दोनों नेता एक-दूसरे पर घाटी में बीजेपी को लाने व फलने-फूलने का आरोप लगा रहे थे।

इसी दौरान उमर अब्दुल्ला ने मुफ्ती मोहम्मद सईद पर भाजपा से 2015 और 2018 में गठबंधन करने का ताना जड़ा। इसके बाद तो दोनों के बीच भयंकर वाक-युद्द छिड़ गया। महबूबा मुफ्ती ने उमर को भी उनके दादा शेख अब्दुल्ला को भी 1947 में जम्मू-कश्मीर के विलय के लिए जिम्मेदार ठहराया। नतीजन दोनों को अलग-अलग करना पड़ा।

महबूबा ने उमर पर पलटवार करते हुए उन्हें याद दिलाया कि उनके पिता फारूक अब्दुल्ला ने अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में गठबंधन किया था। अधिकारियों का तो कहना यह भी है कि उस दौरान आप जूनियर मिनिस्टर फॉर एक्सटरनल अफेयर थे। गौरतलब है की सरकार साल के अंत तक घाटी में चुनाव करवा सकती है। अब देखना दिलचस्प होगा की अब इन दोनों पार्टियों का चुनाव में एक दूसरे के प्रति क्या व्यवहार होगा।

Leave a comment