देशभर में उमड़ा श्रद्धा का सैलाब, घाटों पर लगाई आस्था की डुबकी

मकर संक्रांति के पर्व को लेकर पिछले कई वर्ष से ऊहापोह की स्थिति बन रही है। कुछ लोग 14 जनवरी को निर्धारित तिथि पर मकर संक्रांति मना रहे हैं तो बहुत से लोग हिंदी कैलेंडर के मुताबिक कुछ वर्षों से 15 जनवरी को पर्व मना रहे हैं। मकर संक्रांति के मौके पर पवित्र नदियों में स्नान कर दान-पुण्य करने का विशेष महत्व है। लिहाजा मंगलवार (14 जनवरी 2020) को वाराणसी, ऋषिकेश और हरिद्वार समेत देश के विभिन्न घाटों पर लोग आस्था की डुबकी लगाते दिखे। इस मौके पर कई जगह लंगर लगाकर खिचड़ी वितरित की गई। 14 जनवरी को आस्था की डुबकी लगाने वाले श्रद्धालुओं में बहुत से ऐसे भी हैं जो मकर संक्रांति का पर्व तो 15 जनवरी को ही मनाएंगे, लेकिन एक दिन पहले ही वह पवित्र घाटों पर पहुंच चुके हैं। मालूम हो कि देश में ज्यादातर जगहों पर 15 जनवरी को मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाएगा। तस्वीरों में देखिये कैसे अलग-अलग स्थानों पर मकर संक्रांति मना रहे लोग।

मकर संक्रांति के अवसर पर नई फसल आते ही किसानों के घर खुशहाली छा जाती है। शीत ऋतु की विदाई का संकेत देने वाला यह त्योहार नई ऊर्जा और उत्साह का उत्सव बन जाता है। गौर करें, तो प्रकृति में सदैव उत्सव चल रहा होता है। पेड़-पौधों पर विभिन्न रंग के फूल हर दिन खिल रहे होते हैं, पुराने पत्तों की जगह नई कोंपलें ले रही होती हैं। इस उत्साह और ऊर्जा से ही हमारे जीवन में हर दिन, हर क्षण नवविचार का संचार होता है...

Leave a comment