भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ा

भारत और चीन के बीच दो सफल अनौपचारिक वार्ता हुई हैं. जिसके जरिए दोनों देशों ने कई मुद्दों पर बात की है और उन्हें सुलझाने पर सहमति बनाई है. लेकिन फिर भी कुछ मुद्दों को लेकर दोनों में विवाद हो सकता है. जहां दोकलाम के बाद उपजा यह विवाद दोनों देशों के संबंधों को प्रभावित कर सकता है. वहीं चीन भारत सरकार के जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिए जाने का विरोध कर रहा है. अब अब दलाई लामा और तिब्बत मामला दोनों देशों के संबंधों को और प्रभावित कर सकता है. इस महीने चीन ने भारत से आधिकारिक तौर पर कहा है कि कोई भी वरिष्ठ भारतीय नेता या सरकारी अधिकारी का दलाई लामा से मिलना दोनों देशों के द्विपक्षीय रिश्तों को प्रभावित कर सकता है. दरअसल यह बात चीन ने भारतीय अधिकारियों को हाल ही में धर्मशाला में हुई. राइजिंग हिमाचल ग्लोबल इंनवेस्टर्स समिट से पहले कही गौरतलब है. धर्मशाला को शरणार्थी तिब्बत सरकार का स्थान भी माना जाता है. जबकि इस समिट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद थे. चीन कई बार इस बात की संभावना जता चुका है. केंद्र और राज्य सरकारों के भारतीय नेता और अधिकारी धार्मिक नेता से मुलाकात करते रहते हैं। 

Leave a comment