अलीगढ़ हत्याकांड को लेकर देश में उबाल, जांच के लिए एसआईटी गठित

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में ढाई साल की मासूम बच्ची की जघन्य हत्या के मामले की जांच के लिए एसएसपी ने एसआईटी का गठन किया गया है. इस टीम की अगुवाई एसपी क्राइम और एसपी देहात करेंगे. इस टीम में छह लोगों को शामिल किया गया है. एसपी देहात मणिलाल पाटीदार इस टीम के प्रभारी होंगे. इसमें सीओ खैर, चार विवेचक के साथ एक महिला थाना इंचार्ज सुनीता मिश्रा को टीम में शामिल किया गया है. इस मामले की जांच में मदद के लिए एफएसएल और एसओजी टीम को भी लगाया गया है.

इसके साथ ही इस घटना  की फॉरेंसिक रिपोर्ट आगरा भेज दी गई है. इस घटना को लेकर पुलिस सोशल मीडिया पर लोगों को जानकारी दे रही है.

पुलिस का कहना है कि मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में ले जाने की कोशिश की जाएगी. इसके अलावा मामले के दोनों आरोपियों पर एनएसए के तहत कार्रवाई की गई है. वहीं, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने इस घटना को अमानवीय करार दिया है और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है. इसके अलावा बॉलीवुड के कलाकारों ने भी इस घटना के बाद सोशल मीडिया पर अपने गुस्से का इजहार किया है.

प्रियंका ने इस घटना पर ट्वीट करते हुए दोषियों को सजा दिलाने की मांग की है, साथ ही उन्होंने पीड़ित परिजनों के प्रति अपनी सहानुभूति जताई है. इस घटना के राजनीतिक रूप लेने के बाद एसएसपी ने मामले में पांच पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए दोषियों  को सजा दिलाने की मांग की है. उन्होंने ट्वीट किया, 'उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में मासूम बच्ची की दर्दनाक हत्या ने मुझे हैरान और परेशान कर दिया है. कैसे कोई इंसान एक बच्चे के साथ ऐसी बर्बरता कर सकता है? इस भयानक अपराध के लिए हरहाल में सजा मिलनी चाहिए. उत्तर प्रदेश पुलिस को हत्यारों को सजा दिलाने के लिए तेजी से कार्रवाई करनी चाहिए.'

मानसिकता का दुष्परिणाम है अलीगढ़ हत्या कांडः सूर्य प्रताप शाही

इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए यूपी के कैबिनेट मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा, 'देखिए ये घटनाएं हो जाती हैं. ऐसी घटनाओं के खिलाफ हम सख्ती से कार्रवाई करते हैं और यही वजह है कि उत्तर प्रदेश में अपराध की संख्या काफी घटी है. और जहां कहीं भी छिटपुट घटना होती हैं, उनको कठोर दंड दिया जाता है. कुछ लोगों की मानसिकता का दुष्परिणाम है, जिनके बारे में उनके साथ सख्ती भी की जा रही है और इसके बारे में जागरूकता भी पैदा की जा रही हैं.'

हत्या पर फूटा देश का गुस्सा

वहीं, दिल दहला देने वाली इस घटना को लेकर हिंदुस्तान उबल रहा है और सोशल मीडिया पर भी लोग अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं. इस घटना को लेकर लोग लगातार ट्वीट कर रहे हैं और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग कर रहे हैं. फिल्म जगत से लेकर क्रिकेट जगत के दिग्गजों ने इस घटना को लेकर ट्वीट किया है और वारदात की कड़ी आलोचना की है.

इस मासूम बच्ची के साथ जो हैवानियत हुई, वो इंसानियत को शर्मसार करने वाली है. उसको बिस्किट देने के लालच में बुलाया गया था और उसकी हत्या कर दी गई. हत्यारों ने मासूम की आंखें निकाल ली और उसके शरीर में तेजाब डालकर तीन दिन तक बोरे में भरकर घर में रखा. इतना ही नहीं, बाद में मासूम की लाश को कचरे के डिब्बे में फेंक दिया, ताकि कुत्ते उसके शरीर को नोचकर खा जाएं.

कूड़े से मिला मासूम का शव

इस हत्या का आरोप मोहम्मद जाहिद और मोहम्मद असलम पर है. इनको गिरफ्तार कर लिया गया है. बताया जा रहा है कि अलीगढ़ के टप्पल थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले बूढ़ा गांव में रहने वाली यह मासूम बच्ची 31 मई को अपने घर से लापता हो गई थी. जब खोजबीन करने के बाद बच्ची का कुछ पता नहीं चला, तो परिवार वालों ने बच्ची की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवा दी. हालांकि बच्ची को बचाया नहीं जा सका और 31 मई को ही हत्या कर दी गई.

इस घटना का खुलासा वारदात के 5 दिन बीत जाने के बाद तब चला, जब एक कूड़े के ढेर के पास से बच्ची की लाश मिली. कूड़े के ढेर में कुत्ते बच्ची की लाश को नोंच रहे थे और उसमें से बदबू आ रही थी. कूड़े से बच्ची की लाश मिलने के बाद आशंका जताई जा रही थी कि मासूम के साथ रेप हुआ है, लेकिन बाद में अलीगढ़ के एसएसपी आकाश कुलहरी ने बयान दिया कि बच्ची की मौत गला दबाने की वजह से हुई है. पोस्टमॉर्टम में खुलासा हुआ है कि बच्ची के साथ रेप नहीं हुआ था.

फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई

पुलिस इस हत्याकांड को पूरी तरह से आपसी रंजिश का बता रही है. अलीगढ़ पुलिस ने कहा कि मृतक बच्ची के शव के पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में दुष्कर्म का होना नहीं पाया गया है. पैसों के लेन-देन को लेकर बच्ची की गला घोटकर हत्या की गई है. मामले में आरोपी जाहिद और असलम को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है. आरोपियों पर NSA के तहत कार्रवाई की जा रही है. पुलिस द्वारा फास्ट ट्रैक कोर्ट में पैरवी की जाएगी.

वहीं, मृतक बच्ची के परिजनों ने एक आरोपी की पत्नी और उसके छोटे भाई को भी मामले में गिरफ्तार करने और आरोपी बनाने की मांग की है. इस पर पुलिस का कहना है कि इस घटना की जांच की जा रही है. इसमें जिसको भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

 

Leave a comment