BJP-JDU गठबंधन को लेकर पवन वर्मा के सवाल पर नीतीश कुमार का जवाब

जनता दल यूनाइटेड के वरिष्ठ नेता पवन कुमार वर्मा ने दिल्ली चुनाव में बीजेपी के साथ जदयू के गठबंधन पर सवाल उठाया था और बिहार के मुख्यमंत्री और अपनी ही पार्टी के मुखिया नीतीश कुमार से सार्वजनिक तौर पर जवाब मांगा था। अब इस पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की प्रतिक्रिया आई है। सीएम नीतीश कुमार ने पवन वर्मा के बयान पर हैरानी जताई है और कहा है कि वह अगर उन्हें दूसरी पार्टी ज्वाइन करनी है, तो वे जा सकते हैं। 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पवन वर्मा के पत्र पर कहा कि 'अगर किसी के पास कोई मुद्दा है तो वह पार्टी के भीतर या पार्टी के बाहर चर्चा कर सकता है, मगर इस तरह के सार्वजनिक बयान हैरान करने वाले हैं। वे जा सकते हैं और अगर कोई पार्टी ज्वाइन करनी है तो कर सकते हैं। मेरी शुभकामनाएं हैं।'

नीतीश के बयान पर पवन वर्मा का त्वरित रिएक्शन: नीतीश कुमार की प्रतिक्रिया के बाद पवन वर्मा ने कहा, 'मैं नीतीश कुमार के इस कथन का स्वागत करता हूं कि पार्टी के भीतर चर्चा के लिए जगह है, जैसा कि मैंने उनसे पूछा था। मेरा कभी उन्हें ठोस पहुंचाने का इरादा नहीं था। मैं चाहता हूं कि पार्टी में वैचारिक स्पष्टता हो। मैं अपने पत्र के जवाब का इंतजार कर रहा हूं। जवाब के बाद भविष्य को लेकर कोई कदम उठाऊंगा।'

पवन वर्मा ने क्या कहा था: जदयू के असंतुष्ट नेता पवन वर्मा ने पार्टी अध्यक्ष नीतीश कुमार से दिल्ली चुनावों में भाजपा के साथ गठबंधन करने के बाद मंगलवार को अपनी 'विचारधारा स्पष्ट' करने के लिए कहा था। उन्होंने देश को चलाने में भगवा दल के तरीके पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की 'निजी आशंकाओं' का जिक्र भी किया था। पवन वर्मा ने कड़े शब्दों में लिखे गए अपने दो पन्नों के पत्र में कहा था कि बिहार के बाहर दिल्ली विधानसभा चुनावों में भाजपा के साथ पार्टी के गठबंधन से वह 'बेचैन' हैं। उन्होंने भगवा दल पर 'बड़े पैमाने पर सामाजिक बंटवारे के एजेंडा' पर चलने का आरोप लगाया। पत्र को उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल और फेसबुक पर भी साझा किया है।

पवन वर्मा ने नीतीश पर उठाए थे सवाल: पवन वर्मा ने लिखा, 'जब आप महागठबंधन (राजद और कांग्रेस के साथ) का नेतृत्व कर रहे थे तो आपने खुलेआम आरएसएस मुक्त भारत का आह्वान किया था। ये विचार सार्वजनिक रिकॉर्ड का मामला है।' राज्यसभा के पूर्व सदस्य और जद (यू) महासचिव ने लिखा, ''मुझे याद है कि आपने मुझे निजी रूप से बताया था कि भाजपा के वर्तमान नेतृत्व ने किस तरह आपको अपमानित किया। आपने एक से अधिक मौके पर यह माना कि भाजपा भारत को खतरनाक स्थिति में ले जा रही है।”

Leave a comment