उज्जैन के महाकाल मंदिर समिति ने लिया बड़ा फैसला, मध्य प्रदेश से बाहर के श्रद्धालुओं के आगमन पर रोक

उज्जैनः कोरोना के बढ़ते हुए कदम रोकने के लिए उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में मध्यप्रदेश के बाहर के श्रद्धालुओं के कदम रोक दिए गए हैं. उज्जैन के महाकाल मंदिर समिति ने बड़ा निर्णय लिया है. अब आगामी आदेश तक महाकालेश्वर मंदिर में मध्यप्रदेश के बाहर के श्रद्धालु दर्शन नहीं कर पाएंगे.

 

क्यों लिया फैसला

प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर में अब दर्शन को लेकर कुछ प्रतिबंध और लगा दिए गए हैं. महाकाल मंदिर समिति के प्रशासक सुजान सिंह रावत ने बताया कि उज्जैन में लगातार कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ रही है. इसके पीछे यह भी कारण सामने आ रहा था कि मध्य प्रदेश के बाहर के श्रद्धालु लगातार उज्जैन आ रहे हैं. जिसकी वजह से संक्रमण का खतरा बढ़ रहा था.

 

चार बार सैनिटाइज हो रहा मंदिर

उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह के निर्देशानुसार आगामी आदेश तक मध्य प्रदेश के बाहर के श्रद्धालुओं का मंदिर में प्रवेश बंद कर दिया गया है. उन्होंने यह भी बताया कि महाकालेश्वर मंदिर में अभी केवल ऑनलाइन बुकिंग पर ही प्रवेश हो रहा है. मंदिर में सुबह से लेकर रात तक चार बार सैनिटाइजेशन भी किया जा रहा है.

 

विकास दुबे भी पहुंचा था महाकाल मंदिर

उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर से 9 जुलाई को कुख्यात अपराधी विकास दुबे की भी गिरफ्तारी हुई थी. महाकालेश्वर मंदिर में देशभर के श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं. ऐसी स्थिति में संक्रमण का खतरा बना रहता है . यही वजह है कि मंदिर समिति द्वारा परिस्थिति अनुकूल फैसले लिए जा रहे हैं. मंदिर समिति का यह आदेश कुछ दिनों पहले जारी हो जाता तो शायद विकास दुबे भगवान महाकाल का आखरी दर्शन भी नहीं कर पाता.

 

8 जून से ही खोला गया है महाकाल मंदिर

कोरोना काल में महाकालेश्वर मंदिर को आम श्रद्धालुओं के प्रवेश के लिए रोक दिया गया था लेकिन केंद्र सरकार की गाइडलाइन जारी होने के बाद 8 जून से मंदिर को एक बार फिर खोला गया . महाकालेश्वर मंदिर में अभी भी विश्व प्रसिद्ध भस्म आरती में आम श्रद्धालुओं का प्रवेश नहीं है. इसके अलावा अन्य आरतियों में भी चलायमान दर्शन हो रहे हैं. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी शुक्रवार को मंदिर में आम श्रद्धालुओं की तरह दूर से ही दर्शन किए थे.

Leave a comment