‘चॉकलेटी चेहरों' के बूते कांग्रेस लड़ना चाहती लोकसभा चुनाव,फिल्मी सितारों से की तुलना- कैलाश विजयवर्गीय

इंदौर: कांग्रेस की सक्रिय राजनीति प्रियंका गांधी की एंट्री पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने विवादित बयान दिया है। शनिवार को विजयवर्गीय ने प्रियंका गांधी वाड्रा की तुलना बालीवुड एक्टर करीना कपूर और सलमान खान से की है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस 'चॉकलेटी चेहरों' के बूते आने वाला लोकसभा चुनाव लड़ना चाहती है।

इंदौर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा, कभी कोई कांग्रेस नेता मांग करता है कि करीना कपूर को भोपाल से लोकसभा चुनाव लड़वाया जाए, तो कभी इंदौर से चुनावी उम्मीदवारी को लेकर फिल्मी सितारे सलमान खान के नाम पर चर्चा की जाती है, इसी तरह प्रियंका गांधी को कांग्रेस की सक्रिय राजनीति में ले आया जाता है। उन्होंने कहा, उनके पास नेता नहीं है, इसलिए वो चॉकलेटी चेहरे के माध्यम से चुनाव में जाना चाहते हैं। ये उनके अंदर आत्मविश्वास की कमी को दिखाता है...कोई करीना कपूर के माध्यम से चुनाव में जाना चाहता है, कोई सलमान तो कभी प्रियंका गांधी को ले आते हैं।

बता दें कि प्रियंका गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव से पहले पूर्वी उत्तर प्रदेश का महासचिव बनाया गया है। जानकारी के मुताबिक प्रियंका गांधी 4 फरवरी को कुंभ में स्नान करने के बाद अपना पद संभालेंगी। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान विजयवर्गीय ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की नेतृत्व क्षमता पर भी सवाल उठाए। बीजेपी नेता ने कहा कि अगर कांग्रेस में राहुल के नेतृत्व के प्रति आत्मविश्वास होता, तो प्रियंका को सक्रिय राजनीति में लाया ही नहीं जाता।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कैलाश विजयवर्गीय ने मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर भी हमला बोला और किसानों की कर्ज माफी का मुद्दा उठाते हुए उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव से पहले सरकार किसानों को भरमाने के लिए कर्ज माफी का नाटक कर रही है। बीजेपी नेता ने कहा, कमलनाथ सरकार पहले हमें यह बताए कि क्या उसके खजाने में 40,000 करोड़ रुपये हैं जिनके जरिये वह किसानों का कर्ज माफ करने की नौटंकी कर रही है। कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि अगर कमलनाथ सरकार ने शिवराज सिंह चौहान की कोई भी गरीब हितैषी योजना बंद करने की कोशिश की, तो बीजेपी नेता ईंट से ईंट बजा देंगे। कैलाश विजयवर्गीय ने 'भारत रत्न' सम्मान की घोषणा के बाद यह भी कहा कि इसे राजनीति से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए।

Leave a comment