कांग्रेस अध्यक्ष चुनने के लिए हलचल तेज, CWC सदस्यों से बंद लिफाफे में मांगे गए 4 नामों के विकल्प

कांग्रेस अध्यक्ष चुनने के लिए हलचल तेज हो गई है. पार्टी ने कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) के सदस्यों से नए अध्यक्ष के नाम को लेकर राय मांगी है. संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने CWC के सदस्यों और पार्टी के सभी महासचिवों से कहा है कि वे चार-चार नाम बंद लिफाफे में पार्टी को दें.

 

नेताओं ने इस नए फॉर्मूले के तहत नाम भेजने शुरू कर दिए हैं, जैसे ही सबके नाम पहुंच जाएंगे, केसी वेणुगोपाल सदस्यों द्वारा दिये गए नामों में से सबसे लोकप्रिय चार नामों पर CWC के सदस्य चर्चा करेंगे. वेणुगोपाल चार में से एक नाम चुनने के लिए हर सदस्य से अलग-अलग फोन पर भी बात करेंगे. जिसके बाद कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक बुलाई जाएगी.

दरअसल सीनियर और युवा नेता दो बार मीटिंग कर चुके हैं ताकि किसी नाम पर सहमति बन सके. लेकिन दोनों ही मीटिंग नाकाम रही और फिर इस नए फॉर्मूले के तहत अध्यक्ष चुनने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जा रहा है. ताकि ये संदेश जाए कि सबसे बातचीत करके पार्टी नए अध्यक्ष को चुना है. सोनिया गांधी और राहुल गांधी पहले ही ये साफ कर चुके हैं कि गांधी परिवार से कोई भी व्यक्ति पार्टी अध्यक्ष चुनने की प्रक्रिया में शामिल नहीं होगा.

जल्द चुनाव के लिए उठ रही है आवाज

 

आपको बात दें कि राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद से ही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जल्द से जल्द नए अध्यक्ष के चयन के लिए आवाज उठा रहे हैं. यही नहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जनार्दन द्विवेदी ने आज ही नए अध्यक्ष के चयन प्रक्रिया पर सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को पद छोड़ने से पहले नए पार्टी प्रमुख के चयन को लेकर एक व्यवस्था बनानी चाहिए थी.

 

कांग्रेस के पूर्व संगठन महासचिव द्विवेदी ने यह सवाल भी किया कि कांग्रेस के नए अध्यक्ष को लेकर पार्टी के भीतर जो ‘बैठकें’ चल रही हैं, इससे जुड़े पैनल को किसने अधिकृत किया है? राहुल गांधी के इस्तीफे की तारीफ करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि जिम्मेदार पदों पर मौजूद नेताओं को इस आदर्श का अनुसरण करना चाहिए था.

 

इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कर्ण सिंह ने सोमवार को कहा था कि जल्द से जल्द कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक बुलाकर निर्णय किए जाएं तथा हो सके तो यह बैठक पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अगुवाई में बुलाई जाए.

 

गौरतलब है कि गांधी ने पिछले दिनों अपने इस्तीफे की औपचारिक घोषणा की और नए अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया से खुद को अलग कर लिया. इसके बाद से अब तक सीडब्ल्यूसी की बैठक को लेकर कोई फैसला नहीं हो पाया है.

Leave a comment