PAN और 'आधार' के नियमों में हए बड़े बदलाव..

पैन कार्ड (PAN Card) और आधार कार्ड (Aadhaar Card) के नियम बदल गए हैं. सरकार ने बजट में आधार कार्ड और पैन कार्ड को लेकर कई तरह के नियमों बदलाव किए हैं. इस बदलाव के बाद अब PAN बहुत सारी वित्तीय सेवाओं के लिए अनिवार्य नहीं रह गया है. PAN की जगह आप अपना आधार नंबर का इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन यह वही व्यक्ति कर सकता है जिसके पास PAN कार्ड नहीं है. आइए जानते हैं आपको कहां-कहां पैन कार्ड देना होता है जिसकी जगह अब आप आधार नंबर दे सकेंगे.

आधार कार्ड से बनेगा क्रेडिट कार्ड


अब जिन लोगों के पास पैन कार्ड नहीं है, लेकिन आधार कार्ड है, वो लोग भी क्रेडिट कार्ड आसानी से बनवा सकते हैं. वहीं बैंक अकाउंट भी खोल सकते हैं.

ये हैं पैन और आधार से जुड़े नियम

>> 10 लाख रुपये से ज्यादा की अचल संपत्ति खरीदने पर भी अब पैन के बदले आधार नंबर दे सकते हैं.

>> अब अगर आप 50 हजार रुपये से ज्यादा का कैश ट्रांजैक्शन करते हैं तो पैन नंबर के बदले आधार नंबर दे सकते हैं.

>> अगर आप 2 लाख रुपये से ज्यादा का सोना खरीदने जाते हैं तो ज्वेलर आपसे पैन कार्ड मांगता है. अब आप ज्वेलर को अपना आधार नंबर दे सकेंगे

>> अगर आप कोई फोर व्हीलर वाहन खरीदने जा रहे हैं तो अब आप पैन कार्ड के बदले आधार कार्ड दे सकेंगे.

>> किसी होटल-रेस्टोरेंट में कैश में एक बार में 50,000 का बिल का भुगतान करने पर आधार नंबर दे सकते हैं.

>> म्यूचुअल फंड निवेश और शेयरों की खरीद बिक्री में जहां भी पैन कार्ड जरूरी है वहां भी अब आधार नंबर दिया जा सकेगा.

>> 50,000 से अधिक रुपये की विदेशी करेंसी खरीदने पर आधार नंबर दे सकते हैं.

>> किसी इंश्योरेंस कंपनी को प्रीमियम के तौर पर एक साल में 50 हजार का पेमेंट करते हैं तो पैन के बदले आधार नंबर दे सकेंगे.

>> किसी लिस्टेड कंपनी के 1 लाख रुपए से ज्यादा के शेयर खरीदते हैं तो वहां भी अब आधार नंबर से काम हो जाएगा.

>> कार की खरीद के लिए अब पैन की जगह आधार नंबर दे सकते हैं.

>> डीमैट अकाउंट और बैंक अकाउंट अब सिर्फ आधार कार्ड से खुल जाएंगे.

>> अगर आपके पास पैन कार्ड नहीं है वो अब आधार नंबर देकर भी अपना टैक्स रिटर्न फाइल कर सकते हैं.

Leave a comment