महंगाई दर पहुंची न्यूनतम स्तर पर, खाद्य सामग्री और पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कमी

नई दिल्ली : आम लोगों को महंगाई से राहत मिली है। थोक मुद्रास्फीति दर (WPI) 10 महीने के सबसे न्यूनम स्तर पर पहुंच गई है। सरकार के जारी आंकड़ों के मुताबिक दिसंबर 2018 की तुलना में जनवरी में महंगाई दर 2.76 फीसदी रही। थोक प्राइस इंडेक्स (WPI) दिसंबर 2018 में 3.8 फीसदी था। जनवरी 2018 में यह 3.02 फीसदी और मार्च 2018 में यह 2.74 फीसदी था। आंकड़ों के मुताबिक जनवरी में रसोई के सामान जैसे आलू, प्याज, फल और दूध की कीमतों में थोड़ी कमी आई है। इसके अलावा पेट्रोल-डीजल और पावर सेक्शन की कीमतों में भी कमी आई है। दो दिन पहले सरकार ने खुदरा मुद्रास्फीति के आंकड़ें भी जारी किए थे जिसमें महंगाई दर 2.05 प्रतिशत पर आ गई। दिसंबर के मुकाबले जनवरी महीने में रिटेल महंगाई दर में भी कमी आई। जनवरी महीने में महंगाई दर 2.05 फीसदी रही जो दिसंबर 2018 में 2.11 फीसदी थी।

रिजर्व बैंक द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में मुदास्फीति दर को ध्यान में रखता है। महंगाई दर में कमी के कारण केंद्रीय बैंक ने पिछले सप्ताह प्रमुख नीतिगत दर रेपो में 0.25 प्रतिशत की कमी कर के उसे 6.25 प्रतिशत पर ला दिया है। आरबीआई ने मानसून सामान्य रहने जैसे अनुकूल कारकों को देखते हुए चालू वित्त वर्ष की अंतिम तिमाही के लिये खुदरा मुद्रास्फीति के अनुमान को कम कर 2.8 प्रतिशत कर दिया है।

Leave a comment