वे 7 मौके जब मैदान पर खेल से ज्यादा हुए भारत-पाक क्रिकेटरों के झगड़े

इंग्लैंड में जारी वर्ल्ड कप में कल यानी रविवार को भारत और पाकिस्तान के बीच महामुकाबला होने जा रहा है. ये दोनों चिर प्रतिद्वंद्वी टीम जब भी एक दूसरे से भिड़ती हैं, तब खिलाड़ियों के साथ टीम के समर्थकों की भी धड़कने तेज हो जाती हैं. इतिहास भी इस बात का गवाह रहा कि जब भी दोनों टीमों के बीच मैच हुआ है, दोनों टीमों के खिलाड़ियों के लिए यह करो या मरो जैसा ही रहा. इन दोनों टीमों के खिलाड़ियों के साथ समर्थकों को भी किसी भी कीमत पर हार मंजूर नहीं होती. खिलाड़ी भी अपनी टीम की जीत के लिए पूरी ताकत लगा देते हैं. साथ ही भारत और पाकिस्तान के क्रिकेटर कई बार मैदान पर एक दूसरे से उलझते हुए भी नजर आए हैं. ऐसे ही कुछ मौके हैं जब भारत और पाकिस्तान के खिलाड़ी क्रिकेट के मैदान पर ही आपस में भिड़ गए. 

जब किरण मोरे को चिढ़ाने के लिए मेंढक बने जावेद मियांदाद

4 मार्च को भारत-पाकिस्तान के बीच 1992 के वर्ल्ड कप मैच के दौरान मोरे-मियांदाद का 'झगड़ा' आज भी क्रिकेट फैंस को याद है. उस मैच में मियांदाद ने 'मशहूर मेंढक कूद' लगाई थी. सिडनी में हुए मैच में किरण मोरे ने मियांदाद के खिलाफ बार-बार अपील क्या की, मियांदाद को गुस्सा आ गया. उन्होंने सचिन तेंदुलकर के उस ओवर में मिड ऑफ पर शॉट लगाया और रन के लिए तेजी से दौड़ पड़े, लेकिन खतरे को भांपते हुए क्रीज में लौट गए. इस बीच आए थ्रो पर मोरे ने बेल्स उड़ाई, तो मियांदाद आपा खो बैठे और विकेट के आगे मेंढक कूद लगाई. हालांकि मियांदाद पाकिस्तान को वह मैच जिता नहीं पाए. भारत ने वह मैच 43 रनों से जीत लिया. दरअसल, मियांदाद किरन मोरे की नकल करने की कोशिश कर रहे थे और उन्हें चिढ़ाने की कोशिश कर रहे थे.

आमिर सोहेल बनाम वेंकटेश प्रसाद (1996 वर्ल्ड कप)

1996 वर्ल्ड कप में वेंकटेश प्रसाद और आमिर सोहेल के बीच नोकझोंक हुई. बेंगलुरु में भारत और पाकिस्तान आमने-सामने थी. इस मैच में वेंकटेश प्रसाद और आमिर सोहेल के बीच की भिड़ंत लोग आज भी याद करते हैं. पाकिस्तान की टीम भारत के 287 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी. इस दौरान जब आमिर सोहेल बल्लेबाजी कर रहे थे तो उन्होंने वेंकटेश प्रसाद की गेंद पर चौका लगाने के बाद उन्हें बल्ले से सीमा रेखा की ओर इशारा किया. लेकिन अगली ही गेंद पर जब वेंकटेश प्रसाद ने सोहेल को क्लीन बोल्ड किया और उनका मिडल स्टंप उखाड़ दिया तब प्रसाद ने सोहेल को बेहद ही गुस्से में कहा कि घर जाओ. आखिरकार भारत ने पाकिस्तान को 39 रन से शिकस्त दी. अनिल कुंबले और वेंकटेश प्रसाद के 3-3 विकेट झटके. जीत की ओर बढ़ रही पाकिस्तानी टीम को सोहेल की उस गलती का खामियाजा भुगतना पड़ा.

आलू कहने पर भड़के इंजमाम उल हक

1997 में भारत पाकिस्तान के बीच हुए मैच के दौरान इंजमाम उल हक ने क्रिकेट के मैदान पर एक घटना को अंजाम दिया जिसे लेकर उन्हें आलू तक कहा जाना लगा. यह मैच कनाडा के टोरंटो में खेला जा रहा था, इस मैच में इंजमाम जब बल्लेबाजी करने के लिए मैदान पर उतरे तो उन्होंने मैदान में एक दर्शक को पीट दिया था. दरअसल, दर्शक दीर्घा में एक व्यक्ति लगातार उन्हें आलू-आलू कहकर पुकार रहा था और हक ने आपा खो दिया. इस वाकये को याद करते हुए खुद सौरव गांगुली ने कहा कि इंजमाम बेहद शांत स्वभाव के इंसान हैं, लेकिन एक व्यक्ति उन्हें लगातार माइक्रोफोन स्पीकर पर उन्हें आलू-आलू कहता था, जिसके चलते उन्होंने आपा खो दिया था.

आलू कहने पर भड़के इंजमाम उल हक

1997 में भारत पाकिस्तान के बीच हुए मैच के दौरान इंजमाम उल हक ने क्रिकेट के मैदान पर एक घटना को अंजाम दिया जिसे लेकर उन्हें आलू तक कहा जाना लगा. यह मैच कनाडा के टोरंटो में खेला जा रहा था, इस मैच में इंजमाम जब बल्लेबाजी करने के लिए मैदान पर उतरे तो उन्होंने मैदान में एक दर्शक को पीट दिया था. दरअसल, दर्शक दीर्घा में एक व्यक्ति लगातार उन्हें आलू-आलू कहकर पुकार रहा था और हक ने आपा खो दिया. इस वाकये को याद करते हुए खुद सौरव गांगुली ने कहा कि इंजमाम बेहद शांत स्वभाव के इंसान हैं, लेकिन एक व्यक्ति उन्हें लगातार माइक्रोफोन स्पीकर पर उन्हें आलू-आलू कहता था, जिसके चलते उन्होंने आपा खो दिया था.

गौतम गंभीर Vs शाहिद आफरीदी: 

साल 2007 में जब पाकिस्तान की टीम भारत दौरे पर आई थी तब 5 वनडे मैचों की सीरीज के तीसरे मुकाबला कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में खेला गया था जिसमें गौतम गंभीर और शाहिद आफरीदी के बीच जमकर गाली गलौच गई थी. गंभीर, शाहिद की गेंद पर सिंगल के लिए दौड़ रहे थे. दोनों की टक्कर हुई और गंभीर को लगा कि आफरीदी ने जानबूझकर ऐसा किया है. उसके बाद दोनों में बहस होने लगी.

 

Leave a comment