आखिर क्या है प्रदोष व्रत?

आखिर क्या है प्रदोष व्रत? जिसे रखने से मिलता है खोया हुआ सम्मान

 

किसी भी प्रदोष व्रत में भगवान शिव की पूजा शाम के समय सूर्यास्त से 45 मिनट पूर्व और सूर्यास्त के 45 मिनट बाद तक की जाती है.

 

 

 

Leave a comment