बुधवार को राज्यसभा में बिल होगा पास

लोकसभा में सोमवार को भारी शोर-शराबे के बीच नागरिकता संशोधन विधेयक, 2019 पारित हो गया. हालांकि, विधेयक पेश करने से पहले सदन में करीब एक घंटे तक तीखी नोकझोंक हुई. लेकिन हंगामा नहीं थमा तो दोपहर करीब डेढ़ बजे विधेयक को पेश करने पर मतदान हुआ. विधेयक को पेश करने के पक्ष में 311 और विपक्ष में 80 मत पड़े. अब यह बिल राज्यसभा में पेश किया जाएगा. भाजपा ने इसे लेकर अपने सांसदों के लिए व्हिप जारी कर दिया है. विधेयक पेश करते हुए गृहमंत्री शाह ने कांग्रेस के मुस्लिमों से भेदभाव के आरोपों पर उसके शासनकाल की याद दिलाई. शाह ने कहा, 1971 में इंदिरा गांधी ने निर्णय किया था कि बांग्लादेश से जितने लोग आए हैं, सारे लोगों को नागरिकता दी जाए. तो फिर पाकिस्तान से आए लोगों को क्यों नहीं दी गई. उन्होंने सवाल किया कि जब अनुच्छेद 14 ही था तो फिर बांग्लादेश ही क्यों उन्होंने कहा, वहां नरसंहार रुका नहीं है. वहां आज भी अल्पसंख्यकों को चुन-चुन कर मारा जा रहा है.

Leave a comment