नागरिकता विधेयक का किया समर्थन

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अनुच्छेद 370 के बाद अब नागरिकता संशोधन विधेयक पर सरकार का समर्थन किया है. जहां उन्होंने कहा कि यह विधेयक संविधान के विपरीत है कि नहीं यह अलग बात है. लेकिन इसमें भारत की वसुधैव कुटुंबकम की विचारधारा और सभ्यता है. वहीं सिंधिया ने इंदौर में कहा कि विभाजन देशों के आधार पर तो पहले भी हुआ था. लेकिन धर्म के आधार पर यह पहली बार है. साथ ही मैं तो मानता हूं कि यह संविधान के विपरीत है. लेकिन भारतीय संस्कृति के आधार पर है. अब राज्य और धर्म के आधार हो रहा है. बता दे कि उन्होंने कहा कि मैं मानता हूं कि जो भारत की विचारधारा और सभ्यता है कि सभी को साथ में लेकर चलना. इस अध्यादेश में भी धर्म और राज्य के आधार की बात है. जबकि बाबा साहब अंबेडकर ने संविधान में लिखा है कि किसी को जात-पात, धर्म की दृष्टिकोण से नहीं देखा जाएगा. केवल भारत के नागरिक के रूप में देखा जाएगा।

Leave a comment