प्रियंका चोपड़ा का खुलासा, बताया निक की कौन सी है

अपने 17 साल पुराने करियर में अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा हमेशा ऐसे रास्तों पर चलीं, जिन पर चलने से ज्यादातर लोग कतराते थे। फैशन की दुनिया से जुड़ी छुपी हुई बातें सामने लाने वाली फिल्म ‘फैशन’ में काम करने से लेकर फिल्म ‘सात खून माफ’ में स्याह फितरत वाला किरदार निभाने और ‘मैरी कॉम’ जैसी शख्सीयत को बायोपिक के जरिये जीवंत बना देने तक उन्होंने हमेशा अपने अभिनय के लिए तारीफें बटोरीं।
वर्तमान में बॉलीवुड फिल्ममेकर्स का ध्यान महिला प्रधान फिल्मों की ओर केंद्रित है। प्रियंका को लगता है कि जब से उन्होंने फिल्मों में काम करना शुरू किया था, तबसे लेकर अब तक फिल्म इंडस्ट्री ने लंबा रास्ता तय कर लिया है। 37 वर्षीया प्रियंका बताती हैं, ‘जब मैंने हिंदी फिल्मों में काम करना शुरू किया था, तो मुझसे कहा जाता था, ‘हीरो तय करेगा कि फिल्म की हीरोइन कौन होगी’... यह बात साल 2002 या 2003 की है। सब कुछ फिल्म का मुख्य हीरो तय करता था। मुझे यकीन है कि बहुत सारी फिल्मों में आज भी यही हो रहा है, पर अच्छी बात यह है कि अब दर्शक बदल चुके हैं और अब वे फिल्म में किसी बड़े हीरो की मौजूदगी नहीं, कहानी तलाशते हैं। यह एक बड़ा बदलाव है।’   प्रियंका और उनके गायक-अभिनेता पति निक जोनास के बीच कितना प्यार है, यह किसी से छुपा नहीं है।  क्या निक को प्रियंका की फिल्में देखना पसंद है? प्रियंका बताती हैं, ‘निक को फिल्म ‘मैरीकॉम’ बहुत पसंद आई थी। उसे देखने के बाद उन्होंने मुझसे बॉक्सिंग से जुड़े सवाल पूछना शुरू कर दिया। ‘द स्काई इज पिंक’ देखते हुए उनकी आंखें नम हो गई थीं, जिसके बाद उन्होंने फिल्म की निर्देशक शोनाली बोस से वीडियो कॉल पर बात की।’ आगे वह कहती हैं, ‘निक से मैं पहली बार इसी फिल्म की शूटिंग के दौरान मिली थी। इसके बाद ही हमने मिलना-जुलना शुरू किया और फिर शादी कर ली।’ 
प्रियंका बहुत जल्द रूसो ब्रदर्स की अंतरराष्ट्रीय सिरीज ‘सिटाडेल’ में नजर आएंगी। रूसो ब्रदर्स इससे पहले ‘अवेंजर्स इनफिनिटी वॉर’ और ‘अवेंजर्स एंडगेम’ जैसी फिल्मों का निर्देशन कर चुके हैं।बीते दौर की यादों को जेहन में ताजा करते हुए प्रियंका यह भी बताती हैं कि जो किरदार उनके करियर के लिए मील का पत्थर साबित हुए, उन्हें स्वीकार करने के लिए कई लोगों ने उन्हें हतोत्साहित किया था। वह बताती हैं, ‘जब मैंने फिल्म ‘फैशन’ में काम किया था, तो सबने मुझसे कहा, ‘अभिनेत्रियों को अभिनेत्री प्रधान फिल्मों में ही काम करना चाहिए।’ जब मैंने फिल्म ‘ऐतराज’ में काम करना स्वीकार किया, तो मुझसे कहा गया, ‘लोग तुम्हें खलनायिका मानने लगेंगे... तुम्हारी इमेज तार-तार हो जाएगी...’ पर मैंने अपने दिल की सुनी। मुझे सिखाने वाला कोई नहीं था। अब हमारी इंडस्ट्री में दीपिका पादुकोण, आलिया भट्ट, कंगना रनौट और विद्या बालन जैसी अभिनेत्रियां हैं। ये वही काम करती हैं, जो इनका दिल करता है और अपने करिश्मायी व्यक्तित्व से ये दर्शकों को भी अपनी फिल्में देखने पर मजबूर कर देती हैं। जब मैंने काम करना शुरू किया था, उस वक्त बहुत कम अभिनेत्रियां ऐसा कर रही थीं।’

Leave a comment