IIP: बजट के बाद इकोनॉमी के लिए बुरी खबर, औद्योगिक उत्पादन और घटा

IIP देश के औद्योगिक उत्पादन में दिसंबर महीने में गिरावट आई है. इसका आंकड़ा बुधवार को सामने आया. यह बजट के बाद इकोनॉमी के मोर्चे पर एक और बुरी खबर है. इसके पहले जनवरी में खुदरा महंगाई दर काफी बढ़ने की खबर आई.

  • बजट के बाद इकोनॉमी के मोर्चे पर एक और बुरी खबर
  • दिसंबर में औद्योगिक उत्पादन में 0.3% की गिरावट
  • बुधवार को आए आंकड़े, जनवरी में खुदरा महंगाई भी बढ़ी

बजट के बाद देश के इकोनॉमी के मोर्चे पर एक और बुरी खबर आई है. देश के मैन्युफैक्चरिंग में नरमी रहने के कारण दिसंबर 2019 दौरान औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (IIP)में 0.3 फीसदी की गिरावट आई. बुधवार को आए इस आंकड़े से एक दिन पहले ही वित्त मंत्री ने दावा किया था कि देश की इकोनॉमी में सुधार हो रहा है.

औद्योगिक उत्पादन सूचकांक दिसंबर 2019 में 133.5 पर दर्ज किया गया जोकि दिसंबर 2018 के सूचकांक से 0.3 फीसदी नीचे है.  इससे पहले नवंबर 2019 में औद्योगिक उत्पादन में 1.82 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई थी, जबकि एक साल पहले दिसंबर 2018 में देश के औद्योगिक उत्पादन में 2.5 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई थी. ये आधिकारिक आंकड़े बुधवार को जारी किए गए. औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) में दिसंबर 2018 के दौरान 2.5 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई थी. गौरतलब है कि बजट के बाद इकोनॉमी के लिए कई अच्छी और बुरी खबरें आई हैं. एक चिंताजनक खबर आई कि जनवरी में खुदरा महंगाई दर 7.59 फीसदी बढ़ी. दिसंबर में खुदरा महंगाई दर 7.35 प्रतिशत थी.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को संसद में दावा किया था कि इकोनॉमी में सुधार हो रहा है. इसके लिए उन्होंने सात सकारात्मक संकेतों की बात की थी, जिनमें से एक यह भी था कि औद्योगिक उत्पादन में सुधार हो रहा है. वित्त मंत्री ने कहा था कि नवंबर 2019 में IIP में 1.8 फीसदी की पॉजिटिव बढ़त हुई है, जबकि अक्टूबर 2018 में इसमें गिरावट आई थी.

 

Leave a comment