गहलोत का 7 सूत्रीय फार्मूला क्या दिला पायेगा कांग्रेस को उसकी खोई हुई साख

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस प्रभारी महासचिव रहे अशोक गहलोत को जनार्दन द्विवेदी की जगह कांग्रेस संगठन महासचिव बनाया है. गहलोत को नई जिम्मेदारी सौंपने के साथ ही राहुल ने उनसे पार्टी में नई जान फूंकने के लिए प्लान मांगा. सूत्रों के मुताबिक गहलोत ने इस दिशा में 7 सूत्री प्लान राहुल को बताया. मिली जानकारी के मुताबिक राहुल को यह प्लान इतना पसंद आया कि उन्होंने इस पर अमल शुरू करने के लिए गहलोत को मौखिक रूप से हरी झंडी भी दिखा दी है.   

कांग्रेस में संगठन महासचिव का पद काफी अहम माना जाता है. गहलोत से पहले सोनिया गांधी के विश्वासपात्र माने जाने वाले जनार्दन द्विवेदी के कंधों पर ये जिम्मेदारी थी. गहलोत को उनके पुराने सांगठनिक अनुभव को देखते हुए संगठन महासचिव बनाया गया है. एनएसयूआई से राजनीतिक सफर शुरु करने वाले गहलोत यूथ कांग्रेस, सेवादल का सफर तय करते हुए तीन बार राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष रह चुके हैं.

गहलोत इसके साथ ही एआईसीसी में भी बतौर महासचिव दो बार वो जगह पा चुके हैं. 

क्या है 7 सूत्रीय फार्मूला 

1. देश भर में समयसीमा तय करके प्रदेश, ज़िला और बूथ कमेटियों का गठन किया जाए. इसके लिए पार्टी के प्रदेशों महासचिवों और प्रदेश अध्यक्षों को जल्दी ही निर्देश जारी कर दिए जाएंगे.

2.पार्टी संगठन में हर स्तर पर 5 वर्गों को कम से कम कुल 50 फीसदी स्थान दिया जायेगा। इन वर्गों में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पिछड़ा वर्ग, महिलाएं और अल्पसंख्यक शामिल रहेंगे.

3. केंद्रीय कांग्रेस से दिए जाने वाले प्रोग्रामों को किस तरह हर स्तर पर परफॉर्म किया गया, उसकी मॉनिटरिंग की जाएगी. साथ ही अपने जिले, बूथ या प्रदेश स्तर के मुद्दों पर खुद संगठन ने क्या किया, इसकी भी मॉनिटरिंग होगी.

4. सभी कमेटियों में जगह पाने वालों का एक डेटा बैंक भी तैयार किया जाएगा. इसमें उनकी डिटेल्स, बैकग्राउंड और विशेषज्ञता की जानकारी भी होगी. इसके जरिए व्यक्ति की विशेषता देखकर जरूरत पड़ने पर उसका इस्तेमाल किया जायेगा या कोई पद दिया जायेगा.

5. मॉनिटरिंग गम्भीरता से हो इसके लिए सबको पेपर कटिंग और वीडियो क्लिपिंग भी तैयार रखनी होगी. मॉनिटरिंग के लिए ही राहुल गांधी ने हर राज्य में एक प्रभारी के साथ 4 प्रभारी सचिवों की नियुक्ति का फॉर्मूला बनाया है.

6. हर स्तर पर ट्रेनिंग प्रोग्राम और अधिवेशन तय समयसीमा में आयोजित करने होंगे. इनमें विशेषज्ञों, जानकारों और नेताओं के लेक्चर भी होंगे. 

7. तय हुआ है कि संगठन को मजबूत करने की इस पूरी कवायद की समीक्षा के लिए खुद राहुल हर चार महीने में राज्य के प्रभारी और चारों प्रभारी सचिवों के साथ बैठक किया करेंगे. हालांकि सियासी जरूरत के हिसाब से कभी भी ये मुलाकात हो सकती है.

ऐसा कहा जा रहा है कि राहुल का गहलोत को साफ निर्देश है कि मॉनिटरिंग के बाद जवाबदेही भी तय की जाए. बेहतर प्रदर्शन करने वालों को इनाम और खराब प्रदर्शन करने वालों को सजा का नियम कड़ाई से अमल में लाया जाएगा. साथ ही पार्टी में आपसी फूट और अनुशासनहीनता पर जीरो टॉलरेन्स की नीति का पालन होगा. 

इसके अलावा पार्टी संगठन में पदों पर बैठे 40 फीसदी लोग ही रिपीट होंगे और 60 फीसदी नए चेहरे होंगे. इन नए लोगों में खासकर वो होंगे जो अर्से से पार्टी में हैं, लेकिन पदों पर नहीं है. साथ ही पार्टी में आए कुछ नए लोगों को भी मौका दिया जा सकता है.

अपने नए फॉर्मूले पर बात करते हुए अशोक गहलोत ने कहा ‘जी हां, राहुल जी ने संगठन की दुरुस्तगी के लिए कई नए निर्देश दिए हैं, जिनका पालन होगा. साथ ही सबकी जवाबदेही जरूर तय होगी.’ गहलोत ने पूरे विश्वास के साथ कहा कि इंदिरा, राजीव और सोनिया की तरह ही राहुल भी कांग्रेस को आगे लेकर जाएंगे.

 

Leave a comment