दिल्ली: कैब को लूटकर बनते थे ड्राइवर

क्राइम ब्रांच टीम को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है. पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है जो पहले तो ओला कैब ड्राइवर को लूटते थे फिर उसकी लूटी हुई कार से और सवारियों को बैठाकर उनसे भी लूट की वारदात को अंजाम देते थे.

तलाश में जुटी थी पुलिस

जानकारी के मुताबिक इस पूरे गिरोह का पर्दाफाश तब हुआ जब इन लोगों ने 1 नवबंर को इसी तरह के लूट की वारदात को अंजाम दिया. लूट के बाद  पटपड़गंज थाने में एक पीड़ित ड्राइवर ने लूट की वारदात को लेकर रिपोर्ट लिखवाई. जिसके बाद से पुलिस इस गिरोह की तलाश में जुटी थी.

लूट की वारदात का हुआ खुलासा

पुलिस के मुताबिक पीड़ित ड्राइव ने बताया कि 1 नवबंर की शाम को कुछ लोगों ने आनंद विहार से एक ओला कैब बुक की. उसके बाद उन लोगों ने उस ड्राइवर को एक नसीला पदार्थ पिला उसको एक फ्लैट में बंधक बना दिया.  इन बदमाशों ने पीड़ित ओला ड्राइवर की कार और ओला रजिस्टर्ड मोबाइल का इस्तमाल लूट के लिए किया.

बदमाशों ने ओला ड्राइवर की कार और ओला रजिस्टर्ड मोबाइल के जरिए दिल्ली रेलवे स्टेशन से एयरपोर्ट जाने के लिए एक सवारी को बिठाया औऱ उसके साथ भी लूट की वारदात को अंजाम दिया. इन बदमाशों ने लोगों के डेबिट कार्ड उनसे छीन लिए लिए और अलग अलग एटीएम से लाखों रुपयों को निकाल लिया. यही नहीं बदमाश उन्हें भी फ्लैट में लेजाकर बंधक बना दिया जिसके बाद बदहवासी की हालत में उन्हें सड़क पर छोड़ कर भाग जाया करते थे.

पुलिस ने जानकारी के आधार पर लोनी इलाके से इन बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस के मुताबिक इनकी पहचान हाशिम, सत्यवीर, सचिन और मज़ीद के रूप में हुई है. ये सभी आरोपी लोनी गाज़ियाबाद के रहने वाले है.

पुलिस ने इनके पास से 1 कट्टा, 3 देसी पिस्टल और 8 जिंदा कारतूस भी बरामद किए हैं. हासिम और मजीद पर पहले से ही लूट और डकैती के कई केस दर्ज हैं. यहां तक उन पर बच्ची से रेप का केस भी दर्ज है. फिलहाल अब ये चारों आरोपी पुलिस की गिरफ्त में हैं. पुलिस जांच में जुटी है.

Leave a comment