Bareilly Police : रिटायर्ड फौजी को अगवा कर मांगी पांच लाख फिरौती

आरोपी सिपाही सस्पेंड, दरोगा पर कार्रवाई के लिए मुख्यालय भेजी संस्तुति

बरेली : जब रक्षक ही बन जायें भक्षक तो देश की दशा और दिशा क्या होगी, इसका अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है। कुछ ऐसा ही वाकया जिले में सोमवार को हुआ जहां एक रिटायर्ड फौजी को दरोगा और सिपाही ने लिकर अगवा कर लिया। फिर उसको छोड़ने के लिए पांच लाख रुपये की फिरौती मांगी। शिकायत बारादरी पुलिस तक पहुंच गई तो दोनों बुजुर्ग को छोड़कर भाग गए। हालांकि बुजुर्ग भी सुरक्षित घर पहुंच गए हैं। मामले की जांच में दोषी पाए जाने पर एसएसपी ने आरोपी सिपाही को सस्पेंड कर दिया है जबकि दरोगा को सस्पेंड कराने की संस्तुति पीएसी मुख्यालय को की जा रही है। इस मामले में डीआईजी राजेश कुमार पांडे ने कहा कि मुझे मामले की जानकारी है। इस प्रकरण मेंं एक वीडियो भी मिला है। सिपाही को सस्पेंड कर दिया गया है। एसआई को सस्पेंड करने के लिए निदेशालय पीएसी ट्रेनिंग को पत्र भेजने को एसएसपी से कहा है। साथ ही दोनों कर्मियों के खिलाफ हर हाल में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

घटना के अनुसार रिटायर्ड फौजी राम कुमार गुप्ता भमौरा थाना क्षेत्र के देवचरा के रहने वाले हैं। वह दो दिन पहले किसी काम से कचहरी आए थे जहां उन्हें एसबीआई बैंक के पास पीएसी आठवीं बटालियन के ट्रेनी दरोगा पवन कुमार और यूपी 100 पर तैनात सिपाही अंकित कुमार ने घेर लिया। दोनों ने वर्दी की धौंस दिखाते हुए साथ चलने को कहा। विरोध करने पर दोनों ने उसे स्मैक तस्करी में जेल भेजने की धमकी दी तो बुजुर्ग उनसे साथ चल दिए। दरोगा उसे अपने कमरे पर मुल्ला जी वाली गली जोगी नवादा ले गए। इसके बाद दोनों ने बुजुर्ग के घर वालों से संपर्क कर उन्हे छोड़ने के एवज में पांच लाख रूपए की फिरौती मांगी। घरवालों से वसूली को उन्होंने विकास पुत्र दिनेश निवासी सिसैइया फरीदपुर को रुहेलखंड चौकी के पास भेजा। बारादरी पुलिस से शिकायत होने की भनक लगते ही दरोगा और सिपाही बुजुर्ग को छोड़कर फरार हो गए। उसके बाद बुजुर्ग भी कमरे से निकलकर घर पहुंच गया।

एसएसपी ने पूरे माले की जांच कराई उसके बाद सिपाही अंकित कुमार को सस्पेंड कर दिया। एसपी ट्रैफिक मामले की जांच कर रहे हैं इस मामले में अपराध करने वाले भी पुलिस कर्मी हैं इस वजह से बारादरी पुलिस ने अभी तक कोई एफआईआर दर्ज नहीं की है। बारादरी इंस्पेक्टर ने अधिकारियों को तर्क दिया है कि अभी तक उनको किसी की ओर से कोई तहरीर नहीं मिली है जबकि बुजुर्ग के घर वाले बारादरी थाने के चक्कर लगा रहे हैं। इस मामले में बारादरी इंस्पेक्टर कृष्णवीर सिंह ने जांच कर रिपोर्ट एसएसपी मुनिराज जी को सौंप दी है। जिसमें उन्होंने कहा है कि दरोगा पवन कुमार और सिपाही अंकित कुमार ने बुजुर्ग को एसबीआई बैंक कचहरी के पास रोका था। बुजुर्ग पर नशीला पदार्थ रखने का आरोप लगाते हुए वे दरोगा के कमरे पर जोगी नवादा ले गए। बाद में उन्होंने बुजुर्ग के घर वालों से संपर्क कर उनसे उगाही की कोशिश की।

 

Leave a comment