कोरोना वायरस को लेकर हुए शोध से हैरान हैं वैज्ञानिक, लगातार बना रखी है निगाह

कोविड-19 महामारी की शुरुआत में इसको सांस संबंधी बीमारी के तौर पर देखा जा रहा था। लेकिन बाद में पता चला कि ये जानलेवा वायरस न केवल फैंफड़ों को बल्कि किडनी, दिल और सरकुलेटरी सिस्‍टम को भी नुकसान पहुंचा रहा है। इतना ही इसकी वजह से हमारे सूंघने की क्षमता और जीभ का टेस्‍ट भी बदल या खत्‍म हो रहा हे। अब शोधकर्ताओं को जो जानकारी हासिल हुई है वो उससे बेहद आश्‍चर्यचकित हैं। इसके मुताबिक अस्‍पताल में मौजूद कोरोना वायरस से संक्रमित कई मरीजों में कुछ जरूरी कोशिकाओं की कमी हो रही है जो उनके प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर रही है। जिस तरह का बदलाव शोधकर्ताओं को यहां पर देखने को मिला है उसको एचआईवी के समानांतर माना जा रहा है।

इसके निष्कर्ष से पता चला है कि गंभीर रूप से बीमार मरीजों में जहां कुछ पॉपुलर ट्रीटमेंट फायदा पहुंचाते हैं वहीं दूसरों पर ये नुकसानदेह साबित हो सकते हैं। इस शोध में कहा गया है कि इस वायरस के शिकार होने पर बेहद कुछ बच्‍चे बीमार होते हैं। वहीं कुछ मामलों में इस वायरस पर कई दवाओं के मिश्रण से काबू पाया जा सकता है। ये कुछ ऐसा ही है जैसा एचआईवी में होता है।

Leave a comment